Sociology

sociology

समाज (Society)

समाज साधारण अर्थ में समाज का तात्पर्य व्यक्तियों के समूह के लिए किया जाता है | लेकिन समाजशास्त्रीय अर्थों में व्यक्तियों के बीच जो सामाजिक… Read More »

समाज (Society)

समाजशास्त्र में अध्ययन पद्धति
(Study methods in Sociology)

समाजशास्त्र में अध्ययन पद्धति का उद्देश्य सामाजिक प्रघटना (Phenomenon) का यथार्थवादी अध्ययन है ,जो व्यक्तिगत गुणों पर निर्भर न कर प्रक्रिया पर निर्भर करता है… Read More »

समाजशास्त्र में अध्ययन पद्धति
(Study methods in Sociology)

समाजशास्त्र की प्रकृति|Samajshastra ki prakriti|(Nature of Sociology in hindi)

समाजशास्त्र की प्रकृति|Samajshastra ki prakriti| जब हम किसी विषय के प्रकृति की चर्चा करते हैं तो यह देखते हैं कि वह विषय विज्ञान है या… Read More »

समाजशास्त्र की प्रकृति|Samajshastra ki prakriti|(Nature of Sociology in hindi)

समाजशास्त्र एवं अन्य सामाजिक विज्ञान
(Sociology and other social science)

समाजशास्त्र का अन्य सामाजिक विज्ञान के साथ संबंध एवं भिन्नता से यह स्पष्ट हो जाता है कि समाजशास्त्रीय अध्ययन का केंद्र बिंदु क्या है ?… Read More »

समाजशास्त्र एवं अन्य सामाजिक विज्ञान
(Sociology and other social science)

समाजशास्त्र की विषय वस्तु एवं अध्ययन क्षेत्र
(Subject matter and Scope of Sociology)

समाजशास्त्र की विषय वस्तु एवं अध्ययन क्षेत्र में अंतर – समाजशास्त्र की विषयवस्तु का तात्पर्य उन निश्चित विषयों से है ,जिसका अध्ययन समाजशास्त्र के अंतर्गत… Read More »

समाजशास्त्र की विषय वस्तु एवं अध्ययन क्षेत्र
(Subject matter and Scope of Sociology)

समाजशास्त्र की विषय-वस्तु
(Subject Matter of Sociology)

अधिकांश विद्वान समाजशास्त्र की विषय-वस्तु के अन्तर्गत सामाजिक प्रक्रियाओं ,सामाजिक संस्थाओं ,सामाजिक नियंत्रण एवं परिवर्तन को शामिल करते हैं | विभिन्न विद्वानों के मत निम्नलिखित… Read More »

समाजशास्त्र की विषय-वस्तु
(Subject Matter of Sociology)

development of sociology

समाजशास्त्र का विकास (Development of sociology in hindi )

समाजशास्त्र के विकास में विभिन्न समाजशास्त्रियों का योगदान समाजशास्त्र का विकास सबसे अधिक अमेरिका में हुआ | यद्यपि यूरोप के समाजशास्त्रियों का भी विशेष योगदान… Read More »समाजशास्त्र का विकास (Development of sociology in hindi )

समाजशास्त्र का अर्थ एवं परिभाषा

समाजशास्त्र का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएँ 1838/samajshastra ka kya arth hai ( Meaning and Definition of Sociology in Hindi)

#समाजशास्त्र का अर्थ (Samajshastra ka kya arth hai) – समाजशास्त्र अर्थ एवं परिभाषा; समाजशास्त्र दो शब्दों से मिलकर बना है | पहला लैटिन शब्द ‘Socius’… Read More »समाजशास्त्र का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएँ 1838/samajshastra ka kya arth hai ( Meaning and Definition of Sociology in Hindi)

समाजशास्त्र का उद्भव

समाजशास्त्र का उद्भव (Emergence of Sociology in hindi)

समाजशास्त्र का उद्भव| samajshastra ka udbhav समाजशास्त्र का उद्भव यूरोपीय महाद्वीप में उस समय हुआ;जब वहां की जनता सामंतवादी व्यवस्था के प्रति असहज एवं असुरक्षित… Read More »समाजशास्त्र का उद्भव (Emergence of Sociology in hindi)

समाजशास्त्र की उत्पत्ति

समाजशास्त्र की उत्पत्ति 1838|Origin Of Sociology in hindi

समाजशास्त्र की उत्पत्ति/samajshastra ki utpatti  समाजशास्त्र की उत्पत्ति पश्चिमी यूरोप के फ्रांस देश में हुई| इसका कारण फ्रांसीसी एवं औद्योगिक क्रांति था| उस समय का… Read More »समाजशास्त्र की उत्पत्ति 1838|Origin Of Sociology in hindi